फरीदाबाद में बढ़ते हुए जिस्मफरोशी के मसाज पार्लर पर पुलिस प्रशासन मौन क्यों? क्या है इसका राज

0
83

फरीदाबाद में मसाज पार्लर के नाम पर लोगों को शरीर परोसा जाता है k Mass न्यूज़ की टीम ने पूरी जांच पड़ताल की और पता लगाया की इन स्पा के पास ना तो कोई वैद्य लाइसेंस है और ना ही यह कहीं से रजिस्टर्ड है यह लोग मसाज के नाम पर लोगों को बुलाकर उन्हें लड़कियों का जिस्म परोसते हैं जिसके लिए यह लोग ₹500 मसाज की फीस और 800 से 2000 तक सेक्स करने के लेते हैं इनकी सबसे खास बात यह है कि यह सब मसाज पार्लर ऑनलाइन प्रमोशन भी करवाते हैं, अपना ताकि इन्हें ज्यादा से ज्यादा ग्राहक मिल सके ऑनलाइन प्रमोशन में जस्ट डायल सबसे ऊपर है आप एक बार जस्ट डायल में अपना नंबर दे दे तो आपके पास सभी मसाज पार्लर वालों के फोन आने शुरू हो जाएंगे और वह आपको फोन पर ही सारी जानकारी दे देंगे k Mass की टीम ने रेड रोज मसाज पार्लर की शिकायत एनआईटी डीसीपी को की जिस पर कार्रवाई करते हुए रेड रोज मसाज पार्लर को बंद करवा दिया गया मगर अगले ही दिन वहां पर चॉकलेट ब्लू के नाम से मसाज पार्लर खुल गया क्या यह इत्तेफाक है कि एक ही दिन में दूसरा मसाज पार्लर वहां पर बन गया या फिर रेड रोज का नाम बदल कर चॉकलेट व्यू कर दिया गया है क्या इसकी जानकारी पुलिस प्रशासन को नहीं है फरीदाबाद में खुलेआम जिस्मफरोशी के काम को बढ़ाया जा रहा है और सरकार कहती है कि 18 साल से नीचे जो है वह नाबालिक हैं मगर मसाज पार्लर पर यह कानून या नियम लागू नहीं होता वहां पर सभी उम्र के बच्चे और बूढ़े जवान जाते हैं क्या यह आने वाली पीढ़ी के भविष्य को अंधकार की तरफ नहीं ले जा रहा है मगर सरकार और पुलिस प्रशासन इन सब की तरफ मौन है क्यों

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें