नैनी स्थित एक कंपनी के मालिक की ओर से कंपनी में कार्य कर रहे श्रमिकों का किया जा रहा शोषण जिससे श्रमिकों मे नाराजगी व्याप्त हैं। 

0
14

प्रयागराज /करछना तहसील क्षेत्र के औद्योगिक नगरी में नैनी स्थित तिरूपति ब्रेकर्स प्राइवेट लिमिटेड यूपीडीसी पारले कंपनी में कार्यरत श्रमिकों का ढेर दिनों से शोषण हो रहा है।  करछना क्षेत्र के अनेक गांवों के कंपनी में कार्य कर रहे तमाम श्रमिकों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि कंपनी के मालिक की ओर से 8 घंटे की ड्यूटी के नाम पर 12 घंटे की ड्यूटी कराई जा रही है।  और पूरे महीने काम लिया जाता है।  लेकिन तनख्वाह आधी अधूरी ही दी जाती है । कंपनी का दिन व रात दो पालियों में कार्य चलता है।  जिसमें ईपीएफ एवं ईएसआईसी बहुत कम  दिन दिखा करके कटौती की जाती है ।  दिन  व रात में कर्मचारी लोग 12 – 12 घंटे काम करते हैं । लेकिन कंपनी के दस्तावेज में 8 घंटे कार्य को ही दिखाया जाता है । इसकी शिकायत  श्रमविभाग जिला अधिकारी कमिश्नर  एसडीएम के अलावा पीएम एवं सीएम पोर्टल पर भी ऑनलाइन की गई है।  इसके बावजूद भी जिम्मेदार लोग अनजान बने हुए  हैं। जिससे लोगों में नाराजगी जाहिर है।  श्रम विभाग के  अधिकारियों की ओर से शिकायतों की जांच हेतु कंपनी के प्रबंधक की ओर से झूठी रिपोर्ट दी जाती है। अनेक जगहों पर की गई शिकायतों के बावजूद भी न्याय नहीं मिल सका।  मजदूर नौकरी जाने के कारण कंपनी के खिलाफ खुलकर विरोध नहीं कर सकते।  ऐसा करने से नौकरी  गवाने का भय भी बना रहता है।  मजदूरों का आरोप है कि मेहनत मजदूरी 30 दिन और 12 घंटे ली जा रही है । लेकिन तनख्वाह आधी अधूरी ही दी जा रही है । बताया जा रहा है कुछ मजदूरों के खाते में पूरी मजदूरी का पैसा डाल ने के बाद निकालने  पर आधा अधूरा ही पैसा मुहैया हो पाता है।  शेष पैसा वापस ले लिया जाता है।  शोषित मजदूर मजबूर होकर के आधी तनख्वाह लेकर चुप रहते हैं।  हालांकि इसकी लिखित शिकायत कर्मचारी की ओर से लेबर कोर्ट में भी की गई है । लेकिन सुनवाई के अभाव में श्रमिक लाचार हैं ।

संवादाता
महावीर सिंह
प्रयागराज

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें