अखंड नगर/दो पक्षो में आबादी कि जमीन को लेकर मचा बवाल प्रशासन कर रहा एक तरफा सवाल ?

0
327

सुल्तानपुर 30दिसंबर/कादीपुर तहसील के अंतर्गत विकास खंड अखंड नगर में स्थित बेलवाई माधोपुर ग्राम सभा में दो पक्षों में आबादी की जमीन को लेकर बवाल मच गया है।
घटना के अनुसार बेलवाई माधवपुर बाजार के पिछे पश्चिम तरफ गाटा संख्या 121(क) वर्ग 6कीआबादी है । जिसमें कई मकान बने हुए हैं यह नंबर
शाहगंज अंबेडकरनगर मार्ग से सटा हुआ है। सड़क के किनारे जो मकान बाजार में बने हैं उन मकानों के बीच में समर बहादुर सिंह पुत्र राज नारायण सिंह मीरपुर प्रतापपुर का 25 * 45 का मकान बना हुआ है। जिसके वह बैनामे दार है ।पीछे कुछ जमीन अभी खाली है जो कि आठ अन्य मकानो के पीछे है।जिसमें समर बहादुर सिंह निवासी मीरपुर प्रतापपुर उसे खाली जमीन को पूर्ण रूप से हड़पना चाहते हैं । इस पूरी जमीन को समर बहादुर सिंह पुत्र राज नारायण सिंह, राहुल सिंह पुत्र रणजीत सिंह , अभिषेक सिंह पुत्र समर बहादुर सिंह व विंध्यवासिनी सिंह पुत्र देवनारायण सिंह कटीले तारों से घिरवा कर कब्जा करना चाहते थे। जिसका विरोध करने पर बच्चों वह महिलाओं पर पुलिस के सामने मारपीट की गई पुलिस ने भी उसी पक्ष का सहयोग दिया पुलिस ने कोई बीच बचाव नहीं किया यहां तक की एक बच्चे को उठा कर गर्दन पकड़ कर पुलिस ले गई। किंतु दूसरे पक्ष को पुलिस ने छुआ तक नहीं । हालांकि शाम को दोनों को छोड़ दिया गया यह घटना 29 दिसंबर की है। 30 दिसंबर दिन के 2:00 बजे एसडीएम महेंद्र सिंह कादीपुर , सीईओ कृष्ण कुमार सरोज कादीपुर, थाना अध्यक्ष कृष्ण मोहन सिंह सहित थाने के तमाम सिपाही मौका देखने आए। मौके पर एसडीएम ने सिर्फ इन लोगों से ही सवाल किया और दोनों पक्षों को कागजात लेकर तहसील पर बुलाया । अब सवाल उठता है एसडीएम महोदय ने सिर्फ एक पक्ष से ही सवाल क्यों किया ।मीडिया से उन्होंने बात क्यों नहीं की। उन्होंने साफ तौर पर बात करने से मना किया। आज जब सीईओ जाने लगे दो लड़कों को पुनः ले जाकर चौकी में बैठा दिए प्रधान पति अरविन्द कुमार जब पूछने लगे कि उन लोगों को कहां ले ले गए तो सीईओ ने उनसे भी अभद्रता की।तब लोगों के बताने पर कि यह प्रधान है तब सीओ ने उन पर भी लोगों को बहकाने का आरोप लगा दिया कि आप लोगों को बहका रहे हैं ।इस पर प्रधान ने कहा कि हमारे गांव का मसला है मैं गांव का अध्यक्ष हूं इसलिए मैं पूछूंगा क्योंकि पूछना मेरा फर्ज है। आप इस तरह से मनमानी नहीं कर सकते।जबकि प्रत्यक्षदर्शियों वह गांव वालों के मुताबिक यह जमीन सार्वजनिक आबादी है और सबके सामने सबको मिलना चाहिए केवल एक व्यक्ति पूरे आबादी को नहीं हड़प सकता। अब देखना यह है कि शासन प्रशासन क्या फैसला करते हैं। क्या यह जमीन अन्य पक्षकारों को मिलेगी या यह संपूर्ण रुप से राज नारायण सिंह के कब्जे में होगी।

के मास न्यूज़ सुल्तानपुर