कृषि विभाग द्वारा जागरूकता कार्यक्रम के तहत रबी उत्पादकता किसान गोष्ठी का आयोजन किया गया

0
12

जौनपुर – जिले में कृषि विभाग द्वारा सोमवार को विकासखंड धर्मापुर एवं मुफ्तीगंज के कार्यालय सभागार में कृषि सूचना तंत्र के सुदृढ़ीकरण एवं कृषक जागरूकता कार्यक्रम के तहत रबी उत्पादकता किसान गोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसमें किसानों से लाइन में बुवाई करने, पराली प्रबंधन तथा कृषि विभाग द्वारा संचालित योजनाओ, बीज वितरण, कृषि यंत्रों पर अनुदान, कम लागत में अधिक उत्पादन वाली प्राकृतिक खेती की तकनीकोंयो से प्रशिक्षित किया गया।
मुख्य अतिथि ब्लाक प्रमुख विमलेश यादव ने कहा कि आधुनिक तकनीकियों से किसान खेती कर कम लागत में अधिक उत्पादन कर सकते है।
गोष्ठी को संबोधित करते हुए अपर जिला कृषि अधिकारी डा0 रमेश चंद्र यादव ने कहा कि धान के खेत में किसान बिना जुताई किए सीधे जीरो टिल/सुपर सीडर मशीन से लाइन में गेहूं की बुवाई करें, इससे पराली प्रबंधन एवं बीज, खाद एवं पानी की मात्रा कम लगेगी, खाद जो बुवाई के समय देंगे उसका भरपूर लाभ पौधों को मिलेगा किसान इस विधि से बुवाई करके कम लागत में अधिक उत्पादन प्राप्त कर सकते हैं, उन्होंने बताया कि धान की लंबी अवधि की प्रजातियों की कटाई के बाद नहर सिंचित क्षेत्रों में अधिक नमी होने के कारण जुताई कर के खेत की तैयारी कर बुआई करने में विलंब हो जाता है जिससे उत्पादन घट जाता उन्होंने किसानों से सुझाव दिया कर धान की फसल काटने के बाद खड़े ठूठ में बगैर जुताई के मशीन से लाइन में बुवाई करने से कृषि निवेशो की बचत होगी साथ ही सवा गुना ज्यादा उत्पादन प्राप्त होगा। परती खेतों में बुआई करने से सिंचाई जल की बचत होगी तथा खरपतवार भी कम निकलेगे, लाइन में बुवाई करने पर बीज एक निश्चित गहराई वह अंतराल पर गिरता है एक एकड़ के लिए 40 किग्रा गेहूं का बीज व 50 किग्रा डीएपी लगती है लाइन में बुवाई से खाद एवं बीज का प्रॉपर प्लेसमेंट होता है इसलिए उत्पादन बढ़ जाता है बुवाई 5 सेंटीमीटर गहराई पर होती है इसलिए जड़ों का विकास अच्छा होता है फरवरी में जब गर्म हवाएं चलती हैं तो सिंचाई करने पर फसल गिरती नहीं इतना ही नहीं लाइन में बुवाई से सस्य क्रियाएं आसानी से होती हैं प्रति हेक्टेयर रु0 चार हजार लागत में कमी लाते हुए बेहतर उत्पादन प्राप्त किया जा सकता है। गोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए मंडल अध्यक्ष भाजपा राधेश्याम विश्वकर्मा ने कहा कि सरकार किसानों की समृद्धि के लिए प्रतिबद्ध है, किसानों की आमदनी दूनी करने के लिए किसान सम्मान निधि, फसल बीमा, यंत्रीकरण आदि योजना से किसान लाभान्वित हो रहे है।संचालन एडीओ एजी राम आजाद ने किया। इस मौके पर खण्ड विकास अधिकारी काशीनाथ एवं रबी कुमार, तकनीकी सहायक राजकुमार, मेराज खा, पंकज मौर्य, बीटीएम ज्ञानेश्वर मिश्र, ज्ञानेन्द्र कुमार, हरिश्चन्द्र गुप्ता, उमेश सिंह, गुलाब मौर्य, सूबेदार यादव, रामाशीष, राजेन्द्र राय आदि किसान मौजूद रहे।
ब्यूरो रिपोर्ट हीरा मणि गौतम