दुल्लहपुर पुलिस व स्वाट टीम ने बीते दिनों हुई हत्या के आरोपियों को किया गिरफतार

0
32

दुल्लहपुर/गाजीपुर जिला के दुल्लहपुर थाना अंतर्गत बीते दिनों हुई हत्या के आरोपियों को दुल्हपुर पुलिस ने किया गिरफतार। आपको बताते चलें कि दुल्हपुर थाना में पंजीकृत मु0अ0सं0 161/2022 धारा 302 IPC से सम्बन्धित 03 अभियुक्तो को गिरफ्तार किया गया। इसमें क्षेत्राधिकारी भुड़कुड़ा के कुशल पर्यवेक्षण में रात्रि मे चलाये गये चेकिंग के दौरान मु0अ0सं0 161/2022 धारा 302 IPC से सम्बन्धित अभियुक्त ओमप्रकाश यादव पुत्र प्रेम यादव, पिन्टु यादव पुत्र मुन्ना यादव, व संदीप कुमार पुत्र शिवसरन सभी निवासी थाना दुल्लहपुर जनपद गाजीपुर को दुल्लहपुर स्टेशन से गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार किये गये अभियुक्त ओमप्रकाश यादव के निशानदेही पर हत्या मे प्रयोग किया गया । एक चापड (गडासी ) व मृतक का एक शर्ट खून लगा हुआ बरामद किया गया। पूछताछ में अभियुक्त ओमप्रकाश यादव द्वारा बताया गया कि मैं कामिनी कुमारी (काल्पनिक नाम) पुत्री निवासी सराय बैरक थाना दुल्लहपुर जनपद गाजीपुर को चाहता था परन्तु कामिनी मृतक आशीष चौहान पुत्र रामकवल चौहान निवासी मोलनापुर थाना दुल्लहपुर गाजीपुर को चाहती थी। इसी बात को लेकर एक माह पूर्व हम दोनो मे विवाद हुआ था। दिनांक 13.08.2022 को कामिनी के सम्बन्धो को लेकर आशीष के दुकान पर मुझसे व आशीष से धक्का मुक्की हुई थी तभी आशीष को मारने का प्लान बनाया। पिन्टु यादव द्वारा आशीष के दुकान से अपनी बहन की शादी मे 70-80 हजार रुपये का किराना का सामान उधार लिया था। आशीष द्वारा पिन्टु से बार बार उधार का पैसा मांगा जा रहा था। इसी बात को लेकर पिन्टु से भी विवाद हुआ था तथा लडकी कामिनी जो संदीप की चचेरी बहन है उसके आशीष से नाजायज सम्बन्धो को लेकर समाज मे काफी बदनामी होने के कारण संदीप ने आशीष को कई बार उससे मिलने जुलने से मना किया किन्तु आशीष नही माना तथा संदीप को भी धमकी दिया कि अगर तुम बीच मे पडे तो तुम्हे ठिकाने लगा दूंगा। इससे संदीप की भी आशीष से हाथापायी व गाली गलौज हुई थी जिससे संदीप भी आशीष से मन ही मन काफी जलन व दुश्मनी रखने लगा था। इस पर ओमप्रकाश ,संदीप व पिन्टु तीनो लोगो ने मिलकर दिनांक 13.08.2022 की रात्रि मे प्लान करके आशीष के किराये के मकान मे गये तथा चैनल व आशीष के कमरे का दरवाजा खुला था । तब तक रात्रि के करीब 2.30 बज रहे थे । तीनो अभियुक्त दरवाजा खुला पाकर चुपचाप आशीष के कमरे मे दाखिल हुए तथा सोते हुए ही संदीप एवं पिन्टु ने आशीष का हाथ पैर पकड लिया तथा ओमप्रकाश ने लिए लोहे के गडासे से आशीष के शरीर पर कई वार किये जिसका प्रतिरोध आशीष ने किया किन्तु मजबूत पकड मे होने के कारण अपने को छुडा नही सका। तीनों अभियुक्त आशीष को मरा समझकर वहां से भाग गये किन्तु आशीष की मृत्यु नही हुई थी। होश मे आने पर उसने अपने बगल कमरे मे सो रहो रामरतन पाल को किसी तरह जगाया किन्तु जबडा हाथ तथा शरीर पर गहरे घाव होने के कारण उसे कुछ बता नही पाया जिस पर रामरतन पाल द्वारा 112 नम्बर पर पुलिस को सूचना दी गयी थी। आज दिनांक 18.08.2022 को अभियुक्त ओमप्रकाश यादव को अमारी गेट के पास से समय करीब 01.10 बजे रात्रि गिरफ्तार किया गया तथा उसकी निशानदेही पर आलाकत्ल रक्त रंजित गडासा तथा मृतक की खून से सनी कमीज जिससे ओमप्रकाश ने अपने हाथ पोछे थे, को रेलवे लाइन के किनारे झाड़ियों से बरामद कराया गया तथा अभियुक्त ओमप्रकाश की ही निशानदेही पर रेलवे स्टेशन दुल्लहपुर के प्लेटफार्म नं0 1 के दक्षिणी तरफ रेलवे लाइन के किनारे से शेष अभियुक्त गण संदीप राम व पिन्टु यादव को समय करीब 02.25 बजे गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया गया।

जय प्रकाश चंद्रा,
सब ब्यूरो चीफ, गाजीपुर