शिक्षा का मन्दिर भी चढ़ रहा है भ्रष्टाचार की भेंट सम्बन्धित अधिकारी को नहीं है कोई फर्क क्योंकि उनके बच्चे नहीं पढ़ते हैं सरकारी विद्यालय में

0
361

अंबेडकरनगर

जलालपुर तहसील के भियांव विकासखंड के अंतर्गत सरकार द्वारा तमाम जन कल्याणकारी योजना चलाई गई। तमाम योजनाओं में एक कायाकल्प जैसी योजना है जिसके द्वारा सभी पंचायतों में विद्यालयों के चहारदीवारी से बच्चों को सुरक्षा या स्कूल को सुंदर बनाने का काम सरकार की योजनाओं के माध्यम से सभी जनपदों में ग्राम सभा जोड़ने का काम किया। उसी में से एक मामला सामने आया कि, अहरौली ग्राम सभा के उच्च प्राथमिक विद्यालय हरसिंहपुर भियांव में ग्राम प्रधान ने दोयम ईंट व सफेद बालू से चहरदीवारी का निर्माण करा रहे हैं। इस मामले में ग्रामीणों ने मानक विहीन हो रहे निर्माण कार्य का जमकर विरोध किया।और नाराजगी जाहिर की ग्रामीणों का कहना है कि, चारदीवारी का काम ग्राम प्रधान द्वारा बहुत ही घटिया तरीके से कराया जा रहा है। जिससे चारदीवारी कभी भी टूट कर गिर सकती है। गांव के ही अच्युदानंद तिवारी कहते हैं कि, चारदीवारी लगभग 6 महीने से बन रही है। और अभी तक कंप्लीट नहीं हुई है। दोयम ईंट व सफेद बालू से बन रही चारदीवारी कभी भी गिर सकती है। वही शिव शंकर का कहना है कि, बहुत ही घटिया बाउंड्री बन रही है। केवल हाथ से छूने मात्र से ही बाउंड्री गिर सकती है। दिलीप कुमार कहते हैं कि, चारदीवारी में बहुत ही घटिया मसाला लगाया जा रहा है जिससे बाउंड्री गिर रही है।प्रेमचंद कहते हैं कि, केवल सफेद बालू से बाउंड्री कितनी मजबूत बनेगी एक तरफ बन रही है और एक तरफ गिर रही है। वहीं भृगुनाथ मौर्य का कहना है कि, ग्राम प्रधान द्वारा इतना घटिया काम कराया जा रहा है कि तेज हवा मात्र चलने से ही बाउंड्री गिर रही है। अंकित तिवारी कहते हैं कि,विद्यालय परिषद में शौचालय की व्यवस्था बहुत ही खराब है। शौचालय में पानी की व्यवस्था ही नहीं है। जिसमें विद्यालय में पढ़ रहे छात्र-छात्राओं को समस्याओ का सामना करना पड़ रहा है। यूपी सरकार में आज भी ग्राम पंचायत में हो रहे विकास कार्य मानक के विपरीत हो रहे हैं। विकास कार्यों में अनियमितता तेजी के साथ बढ़ती जा रही है। जिसका मुख्य कारण गुणवत्ता के आधार पर जांच न करना है। जांच के नाम पर केवल खाना पूर्ति की जा रही है।

In