राष्ट्रीय अंबेडकर सेना सुल्तानपुर के द्वारा निकाला गया बौद्ध धम्म मोटर साइकिल यात्रा

0
35

सुल्तानपुर 14अक्टू 0/राष्ट्रीय अंबेडकर सेना सुल्तानपुर के द्वारा एक दिवसीय बौद्ध धम्म पथ यात्रा मोटरसाइकिल रैली निकाली गई।जिसकी शुरुआत माध्यमिक जूनियर हाई स्कूल कादीपुर से सूरापुर , सूरजपुर से अखंड नगर, अखंड नगर से दोस्तपुर होते हुए मुस्तफा बाद सरैया में समापन हुआ ।इस रैली का मुख्य उद्देश्य भारत के मूलनिवासी लोगों में जागरूकता पैदा करना है। राष्ट्रीय अम्बेडकर सेना का कहना है कि हमारा एक ही धर्म बौद्ध धर्म है इंसानियत। हमारा एक ही बौद्ध विहार है संसद । हमारा एकमात्र धर्म ग्रंथ है भारतीय संविधान। शिक्षा ही हमारा हथियार है संगठन ही हमारी शक्ति और संघर्ष ही हमारा उद्देश्य है। आज दिनांक 14 .10. 2021 को बौद्धों का पवित्र त्यौहार है अशोक धम्म विजयदशमी। सम्राट अशोक के कलिंग युद्ध में विजई होने के दसवें दिन तक मनाए जाने के कारण इसे अशोक विजयदशमी कहते हैं इसी दिन सम्राट अशोक ने बौद्ध धर्म की दीक्षा ग्रहण किया था।। यह ऐतिहासिक सत्य है कि सम्राट अशोक ने कलिंग युद्ध के बाद हिंसा का मार्ग त्याग कर बौद्ध धर्म अपनाने की घोषणा किया। बौद्ध बन जाने के बाद सम्राट अशोक ने जगह जगह पर गौतम बुद्ध धर्म स्तूपों का निर्माण तथा बौद्ध विहार की स्थापना किया ।सम्राट अशोक के इस धार्मिक परिवर्तन से खुश होकर देश की जनता ने उन सभी स्मारकों को सजाया संवारा तथा उस पर दीप प्रज्वलित किए यह आयोजन हर्षोल्लास के साथ 10 दिनों तक चलता रहा। 14 अक्टूबर सन 1956 को बाबा साहब भीमराव अंबेडकर ने नागपुर की दीक्षाभूमि पर अपने दस लाख अनुयायियों के साथ बौद्ध धर्म की दीक्षा लिया। इस कारण इस दिन को धम्म चक्र परिवर्तन दिवस के रूप में मनाया जाता है। कार्यक्रम का आयोजन राष्ट्रीय अध्यक्ष एडवोकेट उदय प्रताप बौद्ध तथा जिला प्रभारी सुल्तानपुर एडवोकेट उदय बौद्ध पूर्वांचल प्रभारी एडवोकेट रवि प्रकाश बौद्ध और राष्ट्रीय अंबेडकर सेना कादीपुर के संजय कुमार चंद्रेश रामप्रकाश तथा अखंड नगर के बुधिराम पेंटर ,पूर्व प्रधान रामजीत ,पूर्व प्रधान सत्य प्रकाश आदि लोग कार्यक्रम में मौजूद रहे।

के मास न्यूज़
सुल्तानपुर