कितने लोगो को मौत के मुंह में डलवायेगा प्रशासन की कुम्भकर्णी निद्रा

0
114

आजमगढ निज़ामाबाद बाईपास स्थित नसीरपुर हरिजन बस्ती के पास ताड़ का पेड़ प्रशासन के कुम्भकर्णी निद्रा के कारण कितनी जिंदगियां ले चुका है और अभी कितनी जिंदगियां लेगा अगर प्रशासन के लोगो की कुम्भकर्णी निद्रा नही टूटेगी तब।कल रात लगभग 7 बजे सुनील ग्राम रानी की सराय और सोनू इयारी का पुरा एक ही गाड़ी पर बैठकर बाजार जा रहे थे कि उसी ताड़ के यहाँ पहुँचे ही थे कि एक ट्रक आ गया उससे बचने के लिए वह झुके हुए ताड़ में लड़कर सड़क पर छिटक कर गिर गए।जिससे उन्हें काफी चोटें आई सुनील का सर फट गया खून से लथ पथ दोनों सड़क पर गिरे पड़े थे। किसी ने हंड्रेड डायल किया मगर तब तक थानाध्यक्ष की गाड़ी आ गई थानाध्यक्ष के अंदर मानवता जागी या अपनी कमियों को उजागर होने का डर समाया रहा हो उन्होंने उसे 108 न0 गाड़ी बुलाकर सदर अस्पताल भेज दिया।वैसे निज़ामाबाद के थानाध्यक्ष तो आदमी सड़क पर गिरा रहता है मगर उसे देखने की जहमत भी नही उठाते।कितनी बार पीस पार्टी और अभी महोत्सव के पहले ही थाने पर पीस पार्टी की बैठक में भी उस ताड़ के पेड़ को कटवाने के लिए कस्बे वासी,क्षेत्रीय लोग,पत्रकारों ने भी उपजिलाधिकारी प्रियंका प्रियदर्शनी, सी ओ सदर अकमल खा,और निज़ामाबाद के थानाध्यक्ष दिनेश कुमार सिंह के समक्ष कई बार कह चुके है मगर हर बार सिर्फ आश्वासन का ही घूट पिलाया गया और पिलाया जाता है।देखिये प्रशासन के आश्वासन की यह घूट कितनी जिंदगियों को लेती है।अब तो लग रहा है कि प्रशासन की कुम्भकर्णी निद्रा तब टूटेगी जब वह स्वयं उस पेड़ में लड़ेंगे तब उन्हें एहसास होगा की वह पेड़ कितना खतरनाक स्थान पर है तब उन्हें दूसरे की जिंदगियों का भी कीमत मालूम होगी।