जन सूचना मांगना सभी का अधिकार

0
76

आजमागढ़ , जन सूचना मांगना सभी का अधिकार. जन सूचना अधिकारियों का प्रथम दायित्व बनता है नागरिकों को सूचना उपलब्ध कराना. फरिहा ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन के तहसील महामंत्री राजेंद्र प्रसाद यादव के नेतृत्व में तहसील स्तर पर कार्यरत जन सूचना अधिकार व प्रथम अपीलीय अधिकार को उत्तर प्रदेश सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 एवं नियमावली 2015 के प्रभावी क्रियान्वयन के संबंध में शारदा शिक्षण संस्थान में एक बैठक आयोजित की गई. लोगों को संबोधित करते हुए युवा पत्रकार मनोज कुमार ने कहा कि जन सूचना अधिकार अधिनियम 2005 से भ्रष्टाचार पर काफी लगाम लगी है .और प्रत्येक व्यक्ति को जनहित में इसका उपयोग करना चाहिए. लेकिन इसकी आड़ में किसी का शोषण व उत्पीड़न ना किया जाए. पत्रकार पंकज कुमार पांडे ने कहा कि जन सूचना मांगना सभी का नैतिक दायित्व है .श्री पांडे ने कहा कि सभी अधिकारी समय से मांगी गई सूचनाओं को उपलब्ध कराने का काम करने की कृपा करें .और भरसक प्रयास किया जाए कि जो सूचनाएं विभाग से मांगी जाए उसका निचले स्तर पर ही निराकरण कर दिया जाए .उसे आयोग तक ना जाना पड़े. प्रबंधक पत्रकार विजय विश्वकर्मा ने कहा कि आयोग के समक्ष जो भी मामले लाए जाते हैं. इन पर गंभीरतापूर्वक विचार कर उन्हें निस्तारित किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि सूचना के अधिकार के तहत मांगी गई जानकारी को समय से दिया जाना चाहिए .तहसील महामंत्री व आयोजक राजेंद्र प्रसाद यादव ने कहा कि 30 दिन के अंदर एक्ट के तहत वादी को सूचना प्रदान हो जानी चाहिए .श्री यादव ने कहा कि 2006 से 2019 तक के प्रार्थना पत्रों पर सुनवाई को संतोषजनक बताया .उन्होंने कहा कि आवेदक को 20 साल तक की सूचना दी जा सकती है .परंतु अलग-अलग विभागों में अभिलेखों के बीच आउट होने से सूचना दिया जाना संभव नहीं हो पाता .ऐसी स्थित में आवेदक को विद आउट होने की दिनांक का उल्लेख कर सूचना दिया जाना चाहिए .उन्होंने कहा कि ऐसे आवेदन जो विभाग से संबंधित ना होकर अन्य लोक प्राधिकरण से संबंधित हों तो उन्हें 5 दिन के अंदर संबंधित लोक प्राधिकरण की धारा 6 -3 के अंतर्गत अंतरण कर देना चाहिए. इस अवसर पर सालम धनंजय यादव शिवम मोदनवाल सुनील कुमार यादव रवि कुमार राममिलन गुलशन यादव इत्यादि लोग उपस्थित रहे