दहेज सामाजिक कुरीति करें विरोध

0
45

आजमगढ़/दहेज एक बेटी की शादी के खातिर बिक रहा पिता का घर पैसे जुड़ते गुजर रहा उस पिता का सारा जीवन उक्त पंक्तियां आज के परिवेश में शत प्रतिशत सही साबित हो रही है। उक्त बातें A.B.हेल्थ केयर क्लीनिक के डॉ0 अनिरुद्ध भारती ने अपने आवास पर गोष्टी की उन्होंने कहा कि सामाजिक परिवेश बदल तो गया लेकिन आज भी शादी विवाह में दहेज का पूर्ण रूप से रोक नहीं लग पाया है। बेटी के विवाह के दहेज को इकट्ठा करने में ही एक पिता का पूरा जीवन बीत जा रहा है। साथ ही माता-पिता के मन में हमेशा एक भय सा बना रहता है। कि कहीं दहेज की खातिर बेटी का घर सुना ना रह जाए। अथवा किसी प्रकार की परेशानी नहीं आने पाए।मास्टर अरविन्द ने कहा कि आज भी जरूरत है कि दहेज प्रथा का पुरजोर विरोध करें। जिससे किसी बेटी को और उसके पिता को परेशानी का सामना ना करना पड़े। इस अवसर पर पर पुष्पांजलि रंजीत शुभम दिनेश दीपक कमलेश अर्जुन इत्यादि लोग उपस्थित रहे।