फरिहा / कोरोना महामारी में फार्मासिस्ट के भरोसे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र

0
133

Azamgarh:फरिहा फार्मासिस्ट के भरोसे ही चलता है फरिहा का अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र जहां कोरोना जैसी घातक महामारी से पूरी दुनिया जूझ रही है भगवान के दूसरे रूप कहे जाने वाले धरती के भगवान डॉक्टर दिन रात मेहनत करके अपने घर परिवार बच्चों से दूर रहकर के इस बीमारी से लोगों को बचाने का प्रयास कर रहे हैं वही कुछ ऐसे भी डॉक्टर है जो पूरी तरह से अपनी जिम्मेदारी से बे खबर है गरीब जनता के दुख दर्द को बिल्कुल भी नहीं समझ रहे हैं इन्हीं में से एक है फरिहा अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के डाक्टर रोहित मिश्रा जी जो इस घातक महामारी मे भी गरीब जनता के साथ धोखा गौर सरकार की मुहीम को ठेंगा दिखा रहे हैं इनकी अनुपस्थिति में खाली कुर्सी चेंबर की शोभा बढ़ा रही है कभी आ भी जाते हैं तो एक भी मरीज नहीं देखते हैं अपने चेंबर में बैठे रहते हैं अस्पताल का गेट अंदर से बंद रहता है खिड़की से फार्मासिस्ट सुरेंद्र कुमार शर्मा द्वारा मरीज को पूछ कर बाहर से ही दवा देकर वापस कर दिया जाता है डॉक्टर अपने आपको इतना सुरक्षित रखते हैं कि बाहर खड़े मरीजों की ताला बंदी का भी पालन नहीं करवा पाते हैं साफ-साफ भीड़ देखी जा सकती हैं मरीजों के साथ डॉक्टर का यह बर्ताव से क्षेत्र की जनता में काफी दुख है