जौनपुर : पुलिस कप्तान रवि शंकर छवि का हुआ तबादला, अशोक कुमार को मिली जिले की नई कमान

0
321

जौनपुर :- उत्तर प्रदेश शासन ने जिले के पुलिस कप्तान रविशंकर छवि का तबादला करते हुए उन्हे लखनऊ स्थित वुमेंन पावर लाईन 1090 में तैनात कर दिया है। उनके स्थान पर नये एसपी अशोक कुमार को तैनात किया है। एसपी रविशंकर छवि के कार्यकाल में जो वारदाते हुए वह जिले में पहली बार हुई। ऐसी घटनाए जनता ने या तो फिल्मो में देखा था या किसी अखबार में पढ़ा या सुना था। एक के बाद एक बड़ी वारदाते होती गयी लेकिन किसी का पर्दाफास न होने से जनता का पुलिस से एतबार उठता गया। लोग चट्टी चौराहो पर चर्चा करने लगे कि क्या यही है “भय मुक्त सरकार” । सूत्रों से खबर मिला है कि आपराधिक घटनाओ को न रोक पाने के कारण ही शासन की गाज आज एसपी पर गिर गया, बड़े अफसर पर कार्रवाही होने से जिले में चर्चाओ का बाजार गर्म हो गया है । अब यह भी चर्चा हो रही है कि लाइनबाजार थानाध्यक्ष समेत अन्य जनता के सुरक्षा में तैनात जिम्मेदार अधिकारियो पर कब शासन का हंटर चलेगा।

बीते 31 अक्टुबर की रात एसपी आफिस के पीछे महालक्ष्मी ज्वेलर्स शो रूम में आधा दर्जन से अधिक नकाबपोश बदमाशों ने फिल्मी अंदाज में एक करोड़ रूपये की डकैती करके एसपी रविशकंर छवि को खुली चुनौती दे डाली। अपनी किरकिरी होता देख और व्यापारियों के दबाव में इस सनसनी खेज वारदात का खुलासा एसपी ने 15 नवम्बर को कर दिया था। इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया था उनके पास कुछ लूट के गहने और पैसे बरामद होने का दावा करते हुए इस लूटकाण्ड का मास्टर माइंड मुफ्तीगंज के ब्लाक प्रमुख विनय सिंह, उनके प्रतिनिधि और दो कुख्यात अपराधियों समेत आधा दर्जन लोगो को इस वारदात को अंजाम देना एसपी द्वारा बताया गया था। इस लूटकाण्ड के पर्दाफास के दो दिन बाद ही फिल्मी स्टाईल में नकाबापोष बदमाशो ने दिनदहाड़े एक्सिस बैंक में धावा बोलकर 15 लाख रूपये लूटकर एसपी की छवि को और धूमिल कर दिया। इसी बीच अन्य छोटी बड़ी घटनाओं ने पुलिस के सरदर्द बन गया। ज्वेलर्स लूटकाण्ड का खुलासा होने के बाद ही जनता खुलासे को संदिग्ध मान रही थी इसी बीच आरोपी ब्लाक प्रमुख के पिता ने कई प्रमाण देते हुए पूरी तरह से अपने बेटे को निर्दोश होने का दावा कर रहे है।
आज दोपहर में एसपी का तबादला होने के बाद माना जा रहा है कि उनके कार्यकाल में हुई बड़ी वारदातो और उसका खुलासा न कर पाने के आरोप में उन्हे हटा कर 1090 में भेज दिया गया है