जिलाधिकारी की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में धान खरीद वर्ष 2019-20 की कार्यशाला/बैठक सम्पन्न हुई

0
39

आजमगढ :- जिलाधिकारी नागेन्द्र प्रसाद सिंह की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में धान खरीद वर्ष 2019-20 की कार्यशाला/बैठक सम्पन्न हुई । इस अवसर पर जिलाधिकारी ने बताया कि आजमगढ़ में धान खरीद हेतु खाद्य विभाग के 20 तथा पीसीएफ के 31, यूपी एग्रो के 03, कर्मचारी कल्याण निगम के 03, भारतीय खाद्य निगम के 02, कुल 59 धान क्रय केन्द्र स्थापित किये गये हैं। धान की खरीद 01 नवम्बर 2019 से 28 फरवरी 2020 तक होगी।
जिलाधिकारी ने बताया कि धान खरीद वर्ष 2019-20 में 01 नवम्बर 2019 से खरीद की जायेगी, जिसके लिए कृषको को आनलाईन पंजीकरण कराना अनिवार्य है। कृषक खाद्य विभाग के पोर्टल fcs.up.gov.in पर किसी भी सुविधा केन्द्र या साइबर कैफे से पंजीकरण करा सकते हैं। कृषकों को पंजीकरण कराने हेतु भू-संबंधी अभिलेख/खतौनी, पहचान पत्र/आधार कार्ड, फोटो एवं बैंक पासबुक लेकर जाना होगा। इस वर्ष बटाईदार तथा अनुबन्धित कृषकों से भी धान क्रय किया जायेगा, लघु एवं सीमान्त किसानों का धान बिना सत्यापन के क्रय किया जायेगा। इसके अतिरिक्त कोई भी कृषक जो अधिकतम 100 कुन्टल धान विक्रय करना चाहता है, तो उसका सत्यापन मुक्त रहेगा।
ऐसे कृषक जिनके नाम व खतौनी के नाम मिसमैच हैं, तथा ऐसे किसान जो 100 कुन्टल से अधिक धान बेचना चाहते हैं, उनका सत्यापन उप जिलाधिकारी से होना अनिवार्य है। इस संबंध में जिलाधिकारी ने समस्त एसडीएम को यह भी निर्देश दिये कि इसकी जाॅच करें कि क्या 100 कुन्टल से अधिक धान कृषक के भूमि पर उत्पादन वास्तविकता में है की नही तथा जमीन के लिए खतौनी भी जाॅच करें।
आगे जिलाधिकारी ने बताया कि धान खरीद वर्ष 2019-20 हेतु शासन द्वारा धान का समर्थन मूल्य काॅमन धान, रू0 1815 एवं गे्रड-ए रू0 1835 घोषित किया गया है। समर्थन मूल्य के अतिरिक्त किसानों को उतराई, छनाई/सफाई के लिए रू0 20/- कुन्टल की दर से भुगतान समर्थन मूल्य के साथ किया जायेगा।
जिलाधिकारी ने समस्त धान क्रय केन्द्र के प्रभारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि धान क्रय केन्द्रों पर इलेक्ट्रानिक काॅटा, नमी मापक यंत्र, पंखा, झरना, श्रमिक धनराशि व खाली बोरे की व्यवस्था पहले से ही करना सुनिश्चित करें। इसी के साथ ही साथ किसानों के सुख सुविधा हेतु छाया, कुर्सी, पेयजल की व्यवस्था भी करना सुनिश्चित करें। उन्होने कहा कि यदि जमीन महिला के नाम पर है और महिला केन्द्र पर आती है तो क्रय केन्द्रों पर महिला कृषकों को वरियता दी जायेगी तथा बिना नम्बर के भी उसका धान क्रय किया जा सकता है।
उन्होने बताया कि सभी धान क्रय केन्द्रों पर बैनर लगा होना चाहिए, जिस पर टोल फ्री नम्बर 1800-1800-150 अंकित होना चाहिए तथा धान क्रय केन्द्र राजपत्रित अवकाश एवं रविवारी अवकाश को छोड़कर प्रत्येक दिन प्रातः 9ः00 बजे से सायं 5ः00 बजे खुले रहेंगे। उन्होने बताया कि कृषक के क्रय किये गये धान के मूल्य का भुगतान पीएफएमएस/आरटीजीएस के माध्यम से 72 घण्टे के अन्दर किया जायेगा।
इसी के साथ ही साथ जिलाधिकारी ने धान क्रय केन्द्र के प्रभारियों से कहा कि केन्द्र पर धान को आग, पानी एवं वर्षा से बचाने हेतु समुचित लाइनिंग मैटेरियल, त्रिपाल व अन्य व्यवस्थाएं कराना सुनिश्चित करें।
जिलाधिकारी ने समस्त एसडीएम को निर्देशित करते हुए कहा कि किसानों को धान बेचने के लिए प्रोत्साहित करें, तथा अपने संबंधित क्षेत्र के धान क्रय केन्द्रों का निरीक्षण करंे तथा सुनिश्चित करें कि धान क्रय करने से संबंधित सारी व्यवस्थाएं कर ली गयी हैं की नही।
जिलाधिकारी ने समस्त धान क्रय केन्द्र के प्रभारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि जिन क्षेत्रों में ज्यादा धान खरीद की सम्भावना है, उन क्षेत्र के संबंधित किसानों के साथ बैठक करें, तथा किसानों को धान बेचने के लिए भी प्रोत्साहित करें।
बैठक मंे मण्डी सचिव तथा निरीक्षक के अनुपस्थित पाये जाने पर जिलाधिकारी ने प्रतिकूल प्रविष्टि देने के लिए अपर जिलाधिकारी वि0/रा0 को निर्देश दिये।
इसी के साथ ही साथ जिलाधिकारी खाद्य एवं आपूर्ति के संबंध मे बैठक सम्पन्न हुई। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने डीएसओ को निर्देशित करते हुए कहा कि जिन-जिन क्षेत्रों में ई-पास मशीन द्वारा खाद्यान्न का वितरण सबसे कम हुआ है, उन क्षेत्रों के कोटेदारों को कारण बताओ नोटिस तथा इसकी जाॅच आपूर्ति निरीक्षक से कराना सुनिश्चित करें।
जिलाधिकारी ने डीएसओ/समस्त आपूर्ति निरीक्षकों को निर्देशित करते हुए कहा कि विकास खण्डवार जहाॅ-जहाॅ मुसहर तथा बाॅसफोर की बस्तियाॅ हैं, उन बस्तियों के लोगों का राशन कार्ड बनवायें, यदि यूनिट कटा है तो उसको भी ठीक करायें, खाद्यान्न वितरण करने में कोई समस्या न हो, इसको भी सुनिश्चित करें। इसी के साथ ही साथ आपूर्ति निरीक्षक मुसहर तथा बाॅसफोर बस्तियों के निरीक्षण का प्रमाण पत्र भी उपलब्ध करायें।
आगे जिलाधिकारी ने जिला पूर्ति अधिकारी को निर्देश दिये कि आपूर्ति निरीक्षक के माध्यम से आधार फीडिंग/सीडिंग का कार्य पूर्ण कराना सुनिश्चित करें।
इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी वि0/रा0 गुरू प्रसाद, समस्त एसडीएम, डीएसओ देवमणि मिश्रा, डिप्टी आरएमओ आरपी पटेल सहित समस्त धान क्रय केन्द्रों के प्रभारी उपस्थित रहे।