युवक की इलाज के दौरान मौत पर अस्पताल में हंगामा. तोड़फोड़

0
211

**परिजनों का आरोप पैसे के लिए चिकित्सक ने उपचार करने से किया मना

शाहगंज(जौनपुर) :- सिर व पेट में दर्द का इलाज कराने के लिए पहुंचे युवक को चिकित्सकों ने सर्पदंश का उपचार शुरू कर दिया। एक दिन में एक लाख रुपए से अधिक लेने के बाद पुनः पैसे की मांग करते हुए चिकित्सक ने इलाज करने से मना कर दिया। हालत बिगड़ने के बाद भी इलाज न मिलने से युवक की मौत हो गई। चिकित्सक की लापरवाही से नाराज लोगों ने अस्पताल में जमकर हंगामा करते हुए तोड़फोड़ कर दिया। सूचना पर पहुंची पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

सरपतहां थाना क्षेत्र के रामनगर, अर्सिया मोड़ निवासी प्रेम चंद गुप्ता के 20 वर्षीय पुत्र संतोष कुमार को सिर व पेट में दर्द होने पर गुरुवार की सुबह नगर के बाई पास तिराहा स्थित सुशीला देवी मेमोरियल हस्पिटल लाए। जहां चिकित्सक ज्ञानचंद चित्रवंशी ने युवक को सर्पदंश बताकर उपचार शुरु किया। जिसके लिए 55 हजार रुपए की मांग पर 40 हजार रुपए जमा कराए। शाम तक फिर 23 हजार रुपए जमा किए। आरोप है कि रात में 85 हजार रुपए जमा करने की बात कही गई।
जिसपर 55 हजार रुपए जमा करके शेष पैसा सुबह में देने की बात की गई। लेकिन चिकित्सकों ने बिना पूरा पैसा जमा किए उपचार करने से मना कर दिया। इस बीच युवक की हालत बिगड़ने लगी। परिजन अस्पताल के दोनों चिकित्सक भाई डा. ज्ञानचंद चित्रवंशी व प्रेमचंद चित्रवांशी से इलाज की गुहार लगाई। इलाज न हो पाने के कारण शुक्रवार की तड़के युवक ने दम तोड़ दिया। मौत की खबर लगते ही परिजनों और अस्पताल में मौजूद तीमारदारों में आक्रोश व्याप्त हो गया। गुस्साए लोगों ने अस्पताल में जमकर हंगामा करते हुए मेडिकल स्टोर, अल्ट्रासाउंड, आप्रेशन थिएटर आदि पर लगे शीशे व दरवाजे तोड़ डाले।
लोगों का आक्रोश देख अस्पताल के कर्मचारी भाग खड़े हुए। घटना की खबर पर क्षेत्राधिकारी अजय कुमार श्रीवस्तव, कोतवाल जयप्रकाश सिंह भारी फोर्स के साथ मौके पर पहुंचकर लोगों को शांत कराए। पुलिस ने मृतक के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मृतक के पिता प्रेमचंद गुप्ता की तहरीर पर पुलिस मामले की जांच में जुटी है।