Azamgarh:ठेकमा ब्लाक व ग्राम के कोटेदार कर रहे मनमानी कुछ ग्रामीणों को नहीं दे रहे राशन जिसमें दिव्यांग भी शामिल है

0
325

आजमगढ़:ठेकमा ब्लॉक के अंतर्गत ठेकमा बाजार में कोटेदार कैलाश गुप्ता द्वारा गरीब असहाय दिव्यांग लोगों के साथ अभद्रता किया जा रहा है,एक तरफ़ देश में कोरोना महामारी की वजह से देश में लाकडाउन लगा है, केंद्र और राज्य सरकार का आदेश है की कोई ग़रीब और असहाय भूखा नहीं सोना चाहिए,लेकिन वही कोटेदार के ऊपर कोई असर नहीं पड़ रहा है, जिसमें कि लोग खाद्य पात्रता सूची लेकर कोटेदार के पास जाते हैं तो कोटेदार यूनिट के हिसाब से राशन नहीं देता है अगर किसी पात्रता के पास पात्रता में 8 यूनिट है तो उसे केवल चार यूनिट या पांच यूनिट का ही राशन दिया जाता है और कोटेदार द्वारा रंगदारी दिखाते हुए कहा जाता है कि सरकार हमें यूनिट से कम ही राशन देती है वहीं पर नसीबउल्ला पुत्र जमील ग्राम व पोस्ट ठेकमा थाना बरदह आजमगढ़ कोटेदार कैलाश गुप्ता के अंतर्गत ही रहने वाले हैं इनका कहना है कि हम पति-पत्नी जन्म से नेत्रहीन दिव्यांग है नसीबउल्लाह की पत्नी का नाम महलका है जिसके नाम से अंत्योदय कार्ड बना है कार्ड संख्या 219120 499511 है जिस पर कोटेदार द्वारा उन नेत्रहीन व्यक्तियों को विगत दो माह से मार्च व अप्रैल का  राशन नहीं दिया जा रहा है वर्तमान समय में चल रही कोरोना जैसी आपदा में भी उन दिव्यांगों को राशन नहीं मिला है जब दिव्यांग राशन के लिए गए तो उन्हें यह कह कर भेज दिया गया कि तुम्हारी बेटी अंगूठा लगाकर राशन को ले गई है सच यह है कि दिव्यांग की बेटी गुलजार फातिमा अंसारी 3 माह से मुंबई में है वहीं पर उपस्थित चंद्रकला पत्नी नारायण धोबी भी कोटेदार पर नाराजगी दिखाते हुए कहा कि हमें भी यूनिट के हिसाब से राशन नहीं मिलता है यूनिट से कम ही राशन दिया जाता है वहीं पर गुंजा पत्नी राधेश्याम का कहना है की हम भी  अंगूठा लगाने के लिए जाते हैं जब हमारा अंगूठा लग जाता है तो कोटेदार कहते हैं जाओ तुम्हारा राशन नहीं मिलेगा अंगूठा अभी नहीं लगा है जब हम उसकी बातों का विरोध करते हैं तो कोटेदार कहता है तुम ज्यादा बोलोगे तो तुम्हारा नाम राशन कार्ड मे से कटवा देंगे जहां तुम्हें जाना है, जाओ कोई भी अधिकारी हमारा कुछ नहीं करेगा ग्रामीणों का कहना है,कि अब हमें केवल उच्चाधिकारियों का सहारा है वही अब हमें इंसाफ दिलवा सकते हैं, की भूखे सोए की खाना खा के सोयें