यूपी बोर्ड की परीक्षा को सकुशल व शुचितापूर्ण संपन्न कराने को डीएम व एसपी ने सुपर जोनल/जोनल/सेक्टर, स्टेटिक मजिस्ट्रेट, केन्द्र व्यवस्थापकों संग की बैठक डीएम ने दिए मुख्यनिर्देश,

0
76

उत्तर प्रदेश :प्रत्येक कक्ष में होगा वाॅयस रिकार्डर युक्त सीसीटीवी
माध्यमिक शिक्षा परिषद प्रयागराज द्वारा आयोजित वर्ष 2020 की हाईस्कूल/इण्टरमीडिएट की बोर्ड परीक्षा नकल विहीन तथा शांतिपूर्ण ढ़ंग से कराये जाने हेतु जिलाधिकारी नागेन्द्र प्रसाद सिंह व पुलिस अधीक्षक त्रिवेणी सिंह की अध्यक्षता में राहुल प्रेक्षागृह आजमगढ़ में सुपर जोनल/जोनल/सेक्टर व स्टेटिक मजिस्ट्रेट व केन्द्र व्यवस्थापकों के साथ बैठक सम्पन्न हुई।
इस अवसर पर जिला विद्यालय निरीक्षक ने बताया कि वर्ष 2020 की हाईस्कूल/इण्टरमीडिएट संस्थागत एवं व्यक्तिगत परिक्षाएं एक साथ 18 फरवरी 2020 से प्रारम्भ होकर दिनांक 06 मार्च 2020 को समाप्त होगी। हाईस्कूल की परीक्षा प्रातः 8ः00 बजे से पूर्वान्ह 11ः15 बजे तक एवं इण्टरमीडिएट की परीक्षा अपरान्ह 2ः00 बजे से सायं 5ः15 बजे तक सम्पन्न होगी। वर्ष 2020 की हाईस्कूल की परीक्षा में 106831 परीक्षार्थी शामिल हो रहे हैं, जिसमें बालक 56639, बालिका 50192 एवं वर्ष 2020 इण्टरमीडिएट की परीक्षा में 85315 परीक्षार्थी शामिल हो रहे हैं, जिसमें बालक 44102, बालिका 41213 हैं। परीक्षा को कराये जाने के लिए 280 परीक्षा केन्द्र बनाये गये हैं व जीजीआईसी आजमगढ़ में कन्ट्रोल रूम की स्थापना की गयी है। कन्ट्रोल रूम का टेलीफोन नं0 05462-297477, 9565695885 है। उन्होने बताया कि 280 परीक्षा केन्द्रों के प्रत्येक कक्ष में वाॅयस रिकार्डर युक्त सीसीटीवी कैमरा के डीवीआर के साथ राउटर डिवाइस लगा होना अनिवार्य है तथा पारदर्शिता पूर्ण नकलविहीन परीक्षा कराये जाने एवं परीक्षा केन्द्रों को कन्ट्रोल रूम के माध्यम से वेबकास्टिंग द्वारा मानिटरिंग की जायेगी।
जिलाधिकारी ने बताया कि परीक्षा को नकल विहीन, शांतिपूर्ण ढ़ंग से सम्पन्न कराये जाने हेतु 04 सुपर जोनल मजिस्ट्रेट, 38 सेक्टर मजिस्ट्रेट, 64 स्टेटिक मजिस्ट्रेट लगाये गये हैं व 15 संवेदनशील परीक्षा केन्द्र बनाये गये हैं।
जिलाधिकारी ने समस्त सुपर जोनल/जोनल मजिस्ट्रेट को निर्देश दिये कि अपने संबंधित तहसील में आवंटित परीक्षा केन्द्रों पर परीक्षा के दौरान शतत प्रभावी निरीक्षण करेंगे, प्रत्येक दिन दोनो पाली की परीक्षाओं के दौरान प्रत्येक केन्द्रों का अनिवार्य रूप से निरीक्षण करेंगे। परीक्षा को नकल विहीन एवं शांतिपूर्ण ढ़ंग से सम्पन्न कराने का उत्तरदायित्व सुपर जोनल/जोनल मजिस्ट्रेट को होगा।
जिलाधिकारी ने सेक्टर मजिस्ट्रेट को निर्देश दिये कि परीक्षा के दौरान अपने सेक्टर के अन्तर्गत परीक्षा केन्द्रों का सतत् प्रभावी भ्रमण कर परीक्षा को नकल विहीन एवं शुचितापूर्ण ढ़ंग से सम्पादित कराना सुनिश्चित करें। उन्होने यह भी कहा कि कन्द्र व्यवस्थापकों से संवाद रखें, केन्द्र व्यवस्थापकों को कहीं कोई समस्या न हो।
इसी के साथ ही उन्होने स्टेटिक मजिस्ट्रेट को निर्देश दिये कि परीक्षा के दौरान दोनों पालियांे में प्रश्न पत्र खुलने के पूर्व पहुंचकर परीक्षा सम्पन्न करायेंगे तथा परीक्षा समाप्ति के उपरान्त अपने सम्मुख उत्तर पुस्तिका का बण्डल सील कराकर संकलन केन्द्र के लिए रवाना करेंगे। परीक्षा को नकल विहीन एवं शांतिपूर्ण ढ़ंग से सम्पादित कराये जाने हेतु स्टेटिक मजिस्ट्रेट उत्तरदायी होंगे।
जिलाधिकारी ने बताया कि शैक्षणिक व्यवस्था का स्तर समाज के लिए महत्वपूर्ण है, शिक्षा समाज की आधारशिला है। हम सब एक प्रबुद्ध नागरिक हैं, इसलिए हमारा दायित्व भी है कि नकल विहीन परीक्षा करायें। उन्होने समस्त केन्द्र व्यवस्थापकों को निर्देशित करते हुए कहा कि कक्ष निरीक्षकों की तैनाती ठीक ढ़ंग से करें, प्रश्न पत्रों एवं उत्तर पुस्तिकाओं का वितरण सुव्यवस्थित ढ़ंग से करें। इसी के साथ ही उन्होने कहा कि कक्ष निरीक्षकों की काउन्सिलिंग भी करें। आगे उन्होने कहा कि यदि किसी केन्द्र व्यवस्थापकों पर नकल माफियाओं द्वारा दबाव डाला जा रहा है तो उसकी सूचना उपलब्ध करायें, नकल माफियाओं पर एनएसए भी लगाया जायेगा।
जिलाधिकारी ने बताया कि परीक्षा को शत प्रतिशत नकल विहीन सम्पन्न कराने हेतु एसटीएफ व इंटेलिजेंस की टीम लगायी गयी है, इसलिए सभी केन्द्र व्यवस्थापक परीक्षा को शत प्रतिशत नकल विहीन सम्पन्न कराना सुनिश्चित करें।
पुलिस अधीक्षक त्रिवेणी सिंह ने बताया कि सभी केन्द्र व्यवस्थापक यह सुनिश्चित कर लें कि प्रत्येक कक्ष में वायस रिकार्डर युक्त सीसी कैमरा में कैमरे की रेंज में सभी परीक्षार्थी आ रहे है…